राष्ट्रीय

कदम बढ़ना चाहिए:- श्री भगवान सिंह रोलसाहबसर।

प्रशासकों को विनम्रता व दृढता का समन्वय रखते हुए देशहित मे कार्य करना चाहिए -राजेश्वर सिंह

प्रशासकों को विनम्रता व दृढता का समन्वय रखते हुए देशहित मे कार्य करना चाहिए -राजेश्वर सिंह

आज जयपुर स्थित अशोक क्लब मे श्री क्षत्रिय युवक संघ के आनुषंगिक संगठन श्री क्षात्र पुरुषार्थ फाउंडेशन द्वारा राजपत्रित अधिकारियों की कार्यशाला “लोक सेवाएं, लोक हित एव्ं नया भारत” विषय पर आयोजित की गई।
मुख्य वक्ता के रूप मे श्री क्षत्रिय युवक संघ के संरक्षक श्री भगवान सिंह रोलसाहबसर ने बताया कि प्रत्येक व्यक्ति समाज व राष्ट्र के निर्माण मे अपना कदम बढ़ाएं। इन्हीं कदमों के बल पर नव भारत का निर्माण होगा जो भारत को पुन: विश्वगुरु के पद पर सुशोभित करेगा।
श्री प्रताप फाउंडेशन के संरक्षक श्री महावीर सिंह सरवड़ी ने बताया की कार्यशाला मे बताए गई बातों को लोकसेवक अपने जीवन मे उतार कर उसका क्रियान्वयन करें तभी इसकी सार्थकता हैं।
वरिष्ठ आईएएस श्री राजेश्वर सिंह ने ग्रामोत्थान का बदलता परिदृश्य व प्रशासन की भूमिका पर बात रखते हुए प्रशासकों को विनम्रता व दृढता का समन्वय रखते हुए देशहित मे कार्य करने की बात कही।

पूर्व महानिदेशक मौसम विज्ञान श्री लक्ष्मण सिंह ने क्षत्रिय के स्वाभाविक प्रशासनिक गुणों, जनसेवा मे समर्पण के भाव की बात कहते हुए समन्वय स्थापित कर लगातार कार्यशालाएं आयोजित करने के बारे मे बताया। क्षत्रिय युवक संघ के संघ प्रमुख श्री लक्ष्मण सिंह बैण्याकाबास ने क्षत्रिय युवक संघ का परिचय देते हुए समाज व राष्ट्र सापेक्ष उसके द्वारा किए गए कार्यों के बारे मे बताया। उन्होंने राजपत्रित अधिकारियों से क्षात्र धर्म के अनुकूल शक्तियों का इस्तेमाल राष्ट्र हित मे करने की बात कही। सेवानिवृत पुलिस महानिदेशक श्री प्रकाश सिंह ने लोकहित मे पुलिस व प्रशासन की भूमिका पर व्या्ख्यान देते हुए अधिकारियों को सक्षम बनने, संस्कारवान बनने व मूल्यों को जीवन मे उतारने की बात कही।
पूर्व न्यायाधिपति श्री करण सिंह ने न्यायिक जागरुकता पर बोलते हुए न्याय व पुलिस विभाग से जुड़े अधिकारियों से गरीब इंसान को त्वरित न्याय दिलाने हेतु हमेशा तत्पर रहने के बारे मे बताया। पूर्व इनकम टैक्स चीफ कमिशनर श्रीमती उमा सिंह ने महिलाओं को शिक्षित बनाकर भावी पीढी के निर्माण की बात कही। पूर्व महानिदेशक पुलिस राजस्थान श्री अजीत सिंह ने राजधर्म की पालना करते हुए जनसेवा मे समर्पित रहने, मुख्य अभियंता सीपीडब्लूडी पुष्पेंद्र सिंह ने तकनीकी प्रबंधन मे जनसेवक की भूमिका, श्री धर्मवीर सिंह ने वित्तीय प्रबंधन व जागरुकता, सेवानिवृत जनरल श्री दिलीप सिंह ने भारतीय सेना मे नए अवसरों, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री हेमंत प्रियदर्शी ने कार्यशालाओं की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए नियमित रूप से आयोजन के बारे मे विचार व्यक्त किये।

कार्यक्रम की भूमिका प्रस्तुत करते हुए वरिष्ठ आरएएस श्री महेंद्र प्रताप सिंह गिराब ने प्रशासनिक कौशल के साथ कार्य करने के बारे मे बताया। कार्यशाला मे मंच संचालन श्री क्षत्रिय युवक संघ के आनुषंगिक संगठनों के केंद्रीय कार्यकारी श्री रेवंत सिंह पाटोदा ने किया।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close