राजस्थान

सतपक्ष पत्रकार मंच का सम्मान समारोह संपन्न !

जयपुर । सत् पक्ष पत्रकार मंच की ओर से शनिवार को कृषि अनुसंधान केंद्र दुर्गापुरा में अपने प्रथम स्थापना दिवस के अवसर पर ‘स्मारिका विमोचन,वरिष्ठ पत्रकार अभिवंदन एवं प्रतिभावान पत्रकार अभिनंदन’ समारोह आयोजित किया गया !

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय महासचिव मोहन प्रकाश कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे।
कार्यक्रम में वरिष्ठतम पत्रकार प्रवीण चन्द छाबड़ा, जलते दीप एवं माणक पत्रिका के सम्पादक पदम मेहता,महानगर टाइम्स के प्रधान सम्पादक गोपाल शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार गुलाब बत्रा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की ।
कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं राजस्थान उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश विनोद शंकर दवे का लिखित संदेश का वाचन किया गया ।

कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ पत्रकारों का अभिवंदन किया गया अभिवंदन की श्रृंखला में वरिष्ठतम पत्रकार प्रवीण चन्द छाबडा, सुधेन्दु पटेल,बीकानेर से दैनिक लोकमत के सम्पादक अशोक माथुर , मुख्यमंत्री राजस्थान के विशेषाधिकारी फारूख अफरीदी, जोधपुर से जलते दीप के सम्पादक पदम मेहता, वरिष्ठ पत्रकार विजय शर्मा शामिल रहे ।

कार्यक्रम के दौरान 6 महिला पत्रकारों डेजर्ट ट्रेल की सम्पादक अमृता मौर्य , हिल व्यू समाचार की सम्पादक शालिनी श्रीवास्तव,नफा नुकसान से मधु जैमिनी, दैनिक भास्कर से लता खण्डेलवाल, राजस्थान पत्रिका से मणिमाला शर्मा, ग्राम गदर पुरस्कार से सम्मानित पत्रकार गीता यादव का विशेष रूप से अभिनंदन किया गया। विशेष श्रेणी में प्रसिद्ध चित्रकार चन्द्र प्रकाश गुप्ता का अभिनंदन किया गया।

समारोह में वरिष्ठ पत्रकार चन्द्र मेहता, श्याम सुंदर शर्मा एवं मांगीलाल पारीक का आभार प्रकट किया गया।

स्वागत संबोधन में अध्यक्ष अनिल यादव ने आज के लोकतंत्र में मीडिया की बेकदरी पर कटाक्ष किया तथा पत्रकारिता के क्षेत्र में मानसिक,शारीरिक एवं आर्थिक सुरक्षा सुनिश्चित करने हेतु व्यापक कार्ययोजना पर ​अपने विचार रखे तथा पत्रकार सुरक्षा कानून तथा ईमानदार आजीविका के सुनिश्चित विकल्प के लिए संघर्ष करने का आह्वाहन किया।

मंच के मुख्य महामंत्री गोपाल गुप्ता ने संस्था का वार्षिक प्रतिवेदन पेश किया तथा पत्रकारिता से ​जुड़े विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात रखी। गुप्ता ने कहा कि जब आजादी कि लड़ाई में साप्ताहिक और पाक्षिक समाचार पत्रों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है आज भी पत्रकार उसी गुलामी कि स्थिति में है। उन्होंने कहा कि सरकारों को पत्रकारों के लिए एम् एन ए (मिनिमम न्यूज़ अलाउंस) जैसी योजना पर काम करना चाहिए।

मंच को संबोधित करते हुए वरिष्ठ पत्रकार गोपाल शर्मा ने कहा कि वर्तमान समय में सतपक्ष का पक्षधर होना असंभव होता है क्योंकि पत्रकारिता का अब आर्थिक दौर है!
इस दौर में सच्चाई के साथ पत्रकारिता करना बहुत कठिन हो गया है।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रवीण चंद्र छाबड़ा वरिष्ठ पत्रकार ने आजादी के दौर का स्मरण कराते हुए कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन एक क्रांति थी। महात्मा गांधी ने इस क्रांति का आगाज अहिंसा से किया था !वर्तमान युग में मीडिया नफरत फैलाने का काम करने लग गया है। इससे देश में माहोल खराब होता जा रहा है।

इसी क्रम में कांग्रेस के पूर्व महासचिव मोहन प्रकाश ने मंच को संबोधित करते हुए कहा कि आज देश में ऐसा माहौल बन गया है जिसमें लोग देशभक्ति का प्रमाण पत्र मांग रहे हैं। वे खुद पहले देशभक्त नहीं दे पटना की घटना का प्रदान करते हुए उन्होंने मोहन प्रकाश जी ने कहा कि अंग्रेजो के खिलाफ आजादी की क्रांति का आगाज किया गया था। एक व्यक्ति ने तिरंगे को लेकर यात्रा निकाली उसी दौरान अंग्रेज सैनिक ने उस भारतीय क्रांतिकारी गोली मारी तभी तिरंगे को सबसे पहले दूसरे क्रांतिकारी ने तिरंगे थाम लिया। तभी उसमें भी गोली मार दी फिर भी उसने नहीं दिया। तिरंगे को गिरने नहीं दिया। देशभक्ति का। आज भी लोग देश भक्ति का प्रमाण पत्र बांट रहे हैं, जो पहले तिरंगे के खिलाफ में रहे थे ।

महानगर टाइम्स के संपादक गोपाल शर्मा ने कहा सत्यपक्ष की राह बहुत कठिन है खासकर पत्रकारों के लिए, उन्होंने कहा कि ऐसे में जब प्रिंट से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मिडिया तक जब बिक रहा हो तब सत्य की बात करना बहुत हिम्मत का काम है।

वरिष्ठ पत्रकार गुलाब बत्रा ने अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में खबर के महत्व को बताते हुए कहा कि खबर ऐसी होनी चाहिए जो जन आंदोलन बन जाये।

मंच का संचालन विक्रम गढ़वाली वरिष्ठ पत्रकार ने किया। कोषाध्यक्ष विकास आर्य ने आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया ।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close