राजस्थान

यज्ञ की ज्वाला भगवान का स्वरूप – संत चन्द्रशेखर

खारिया पतावतान (उदट) में आयोजित हुई सात दिवसीय भागवत कथा हुई सम्पन्न, यज्ञ का हुआ आयोजन!

बाप/कविकान्त खत्री/चमकता राजस्थान
क्षेत्र के खारिया पातावतान (उदट) में आयोजित हुई सात दिवसीय भागवत कथा का समापन गुरुवार को हुआ। इस दौरान यज्ञ का आयोजन हुआ। यज्ञ में विश्व कल्याण की कामना को लेकर आहुतियां दी गई। इस मौके बोलते हुए कथावाचक संत चंद्रशेखर भेलू ने कहा कि यज्ञ की ज्वाला भगवान का स्वरूप होती है। यज्ञ से निकलने वाले धुएं से पर्यावरण शुद्ध होता है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर हम सभी को अपने अपने घरों में धार्मिक कार्यक्रम आयोजित करवाने चाहिए। संत ने कहा कि जिस नगरी में भागवत कथा का आयोजन होता है, वहां के लोग धन्य हो जाते हैं। भागवत कथा का श्रवण करने से मनुष्य को सभी दुखों से छुटकारा मिल जाता है। मानव सत्य बोलकर प्रभु की भक्ति करे तो उसे फल अवश्य मिलेगा। हर हिन्दू को गाय पालनी चाहिए। इस मौके सैकड़ों श्रद्धालु उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close