राजस्थान

3 जनवरी से राजस्थान में फिर बंद हो सकते हैं स्कूल?

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओपन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा सहित जिले के मंत्री-विधायकों तथा मेयर ने स्कूल बंद रखने का सुझाव दिया।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में 3 जनवरी से राजस्थान में स्कूल खोलने को लेकर भी चर्चा हुई!
जिसमें चिकित्सा मंत्री मीणा, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, नगर निगम ग्रेटर की मेयर शील धाभाई सहित अन्य जन प्रतिनिधियों ने कहा कि बच्चों में कोरोना अधिक तेजी से फैलने की आशंका है।
फिलहाल स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियां चल रही हैं, लेकिन 3 जनवरी को जब स्कूल खुलने लगेंगे, तो स्थिति गम्भीर हो सकती है।

वहीं मुख्यमंत्री गहलोत ने मात्र 3 से 4 हजार प्रतिदिन हो रही सैम्पलिंग को लेकर नाराजगी जताई और सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम शर्मा की फटकार भी लगाई। गहलोत ने कहा कि सैम्पलिंग की संख्या कौन तय करता है?
दिल्ली में क्या हालात बने, आपने देखे। जयपुर प्रदेश की राजधानी है, इसे हल्के में मत लेना, क्या आपको 10 हजार सैंपल प्रतिदिन नहीं लेने चाहिए?

मंत्रियों में वाकयुद्ध सीएम बोले- लाइव है करीब ढाई घंटे चले ओपन मंथन के बीच परसादी लाल मीणा, खाचरियावास एवं जलदाय मंत्री महेश जोशी के बीच वाकयुद्ध भी चला।
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि ये ओपन वीसी हैआपको 1 लाख 90 हजार 84 लोग सुन रहे हैं। आप लोगों की भावना लोगों तक पहुंच गई है, अब फैसला राज्य सरकार करेगी।
प्रताप सिंह खाचरियावास शादियों में लोगों की संख्या पर पाबंदी सही नहीं है, इससे गरीब मारे जाएंगे। लाइट उठाने वाले, बैंड-बाजे वाले। बहुत गरीबी है।
अशोक गहलोत इनकी पैरवी आप अलग से करो। भले ही घर बैठे पैसे देने की बात करो। बचाव जरूरी है, उससे समझौता मत करो।
खाचरियावासआप फिर धार्मिक स्थल बंद कर दो, कोई बुरा नहीं मानेगा। शादी ब्याह पर पाबंदी मत लगाना।
महेश जोशी एक तरफ तो नया साल मनाने के लिए छूट दे रहे हैं और दूसरी ओर धार्मिक स्थल बंद कर दें।
अशोक गहलोत धार्मिक स्थल बंद करने और नए वर्ष के सेलिब्रेशन में कोई लिंक नहीं है, देखो।

परसादी लाल 31 दिसंबर की रात की पार्टी के लिए दी गई छूट का जनता के बीच मैसेज सही नहीं गया।

महेश जोशी हम रोक लगाने की नहीं, बल्कि रोक खोलने की बात कर रहे हैं।
खाचरियावास: मैं मंदिरों की बात नहीं कर रहा।

अशोक गहलोत आपको 1 लाख 90 हजार 84 लोग सुन रहे हैं। आप लोगों की भावना लोगों तक पहुंच गई है। अब फैसला राज्य सरकार करेगी।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close